बेटी ही होती है, एक बेटी के भ्रूण हत्या की जिम्मेदार

बेटी ही होती है, एक बेटी के भ्रूण हत्या की जिम्मेदार

एक पिता अपनी बेटी को अपने बेटे से भी अधिक प्यार करता है।

बेटी घर की रौनक,घर की आन, मान, शान होती हैं।

लेकिन यदि वह उनके और समझ के खिलाफ जाकर,

भागकर शादी करे, या प्यार व्यार के चक्कर में पड़कर,

मां बाप को समाज की नजर में शर्मिंदा करे वह गलत है।

इस प्रकार एक बेटी की जिम्मेदारी होती है भ्रूण हत्या की।

मां बाप को बेटी नहीं चूभती, बल्कि

बड़ी होकर वह कलंक का कारण न बन जाए,

वह बात चूभती है।

अब बेटियां हीं उन नन्हीं बेटियों को बचा सकती हैं।

बेटी बचाओ….. बेटी पढ़ाओ……. ।

लेखक :- चन्द्र किशोर

 

666 total views, 3 views today

Leave a Reply