डिजिटल_महाभारत_1

क्या बात है पुत्र दुर्योधन.. यह बाहर कोलाहल कैसा दिखाई दे रहा है 🤔

दिखाई दे रहा है 😳, कुछ ज्यादा ही आपको दिखाई देने नहीं लगा महाराज? मतलब मैं इसे क्या समझूं?

समझा करो पुत्र..
अपने ठंडे पड़े अरमानों को यूँ सहला लिया करते हैं
कि बस शब्दों के सहारे जी को बहला लिया करते हैं

इरशाद इरशाद

इरशाद को छोड़ो, वे मुगलों तुर्कों के साथ हमाये आर्यावृत में लकड़ी करने आयेंगे फ्यूचर में। तुम कोलाहल का कारण बताओ पुत्र।

महाराज पाण्डु के पुत्र हस्तिनापुर पधारे हैं.. जनता उन्हीं के पीछे ‘भारत माता की जय’ का उदघोष करते हुए ‘तिरंगा यात्रा’ निकाल रही है।

ओह! अतिउत्तम.. वे हमारे अनुज के पुत्र और तुम्हारे ही भांति इस राज्य के उत्तराधिकारी हैं। अब से वे हमारे ही साथ रहेंगे और तुम लोगों के साथ एमआरएफ पेस अकेडमी में गुरू द्रोण से शिक्षा लेंगे।

यह ठीक नहीं है महाराज.. वे पता नहीं किसके पुत्र हैं। आप उन्हें हमारे बराबर में खड़ा करके गलत कर रहे हैं। पूरी दुनिया जानती है कि मृगआखेट के चक्कर में महाराज पाण्डू ने एक ऋषि का विकेट उखाड़ फेंका था और ऋषि ने क्रोध में आ कर उनके पेन ड्राइव में श्राप के वायरस इंस्टाल कर दिये थे.. फिर महारानी कुंती यह एप्स लाई कहां से 😠

समझने का प्रयत्न करो बेटा.. त्रिपुरा वाले विप्लव देब यह रहस्योद्घाटन कर चुके हैं कि महाभारत काल में इंटरनेट था। अब छुपाने से कोई लाभ नहीं। महारानी कुंती ने पांडवों को इंटरनेट से डाऊनलोड किया है।

लेकिन महाराज.. इस तरह तो वे कुरूवंशी रहे ही नहीं, फिर भला..

जस्ट शटअप किड.. मत भूलो कि हमारे पिता विचित्रवीर्य हमारे पैदा होने से काफी पहले टेकऑफ कर चुके थे और मुझे और पाण्डु को हमारी माताओं अंबिका और अंबालिका ने डब्लू डब्लू डब्लू डाॅट वेद व्यास डाॅम काॅम से डाउनलोड किया था। तो उस तरह तो हम भी कुरुवंशी नहीं हुए फिर 😬

लेकिन महाराज..

नो इफ नो बट.. ओनली जट। द सभा इज एडजर्न्ड।

**

आओ पुत्रों.. एमआरएफ पेस एकेडमी में गुरू ग्रेग आपका खैरमकदम करता है 😍

नाम में कन्फ्यूज नहीं हो रहे गुरूजी 😳

वो बात नहीं। भविष्य में ग्रैग चैपल ने हमारे नाम की उपाधि ली थी तो हम इस तरह कभी कभार बदला चुका लेते हैं।

लाईक लागू गुरूजी।

शाबाश.. लाईक्स कमेंट और शेयर के सिवा इस दुनिया में रखा ही क्या है पुत्र। आज हम तुम्हें सिंगल स्टम्प पे थ्रो करना सिखायेंगे। वह सामने देखो, पेड़ पर बैठी लड़की दिख रही है तुम्हें.. इसकी आंख पे बाॅल मारनी है। सबसे पहले तुम आओ युधिष्ठिर। क्या दिख रहा है तुम्हें?

पूरा ग्राउंड.. स्टम्प की जगह लगा हुआ पेड़ और गिल्ली की जगह रखी हुई लड़की..

जस्ट शटअप पुत्र। तुम नल्ले हो.. भीम तुम बताओ, तुम्हें क्या दिख रहा है?

शक्ल से तो मर्द जैसी लग रही है.. फिगर भी छप्पन चालीस छप्पन की लग रही गुरुजी 😜

भक्क बुढ़बक 😠.. तुम बताओ अर्जुन।

कैमरे पे ले के जूम कर लिया है गुरूजी, बस आंख ही आंख दिख रही है।

शाबाश माई सन.. तुम बड़े हो के मोदी बनोगे। शूट हर।

खटाक!

ओह.. आह.. मार डाला रे.. 😣

अरे पितामह आप.. लड़की के भेस में 😱

अपने कुल के नाबालिग नौनिहालों की सोशल एक्टिविटीज पर नजर रखने के लिये एंजेल प्रिया बने हुए थे और तुमने हमाई ही आंख फुड़वा दी 😨। वो तो कहो कि इच्छा मृत्यु का वरदान प्राप्त है वर्ना तुमने तो हमारे लगवा ही दिये थे।

क्षमा करें सर.. मुझे लगा कोई वामपंथी स्टिंग ऑपरेशन करने घुसा है एकेडमी में। साॅरी अगेन ब्रो।

**

महाराज.. हम स्टेडियम में पंहुच चुके हैं। चारों तरफ हर्षनाद हो रहा है.. आज सभी युवराज एमआरएफ अकेडमी से पूरी चौंसठ काम कलायें सीख कर अपने टैलेंट का डेमो पूरी हस्तिनापुर की जनता को देंगे।

ओह.. यह शोर क्यों दिखाई दे रहा है हमें 🤔

दिखाई 😳.. जरूरत से ज्यादा नहीं दिखाई देता है आपको।

अरे संजय दत्त.. तुम भावना पे कंसन्ट्रेट किया करो, भावना का ब्रूटल रेप मत किया करो। शोर क्यों मच रहा है.. कोई हमारे खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव ले आया है क्या?

महाराज.. अधीरथ पुत्र कर्ण भी इस आयोजन में हिस्सा लेना चाहता है, लेकिन सभी कमेंट्रेटर और बीसीसीआई वाले कह रहे हैं कि यह नियम विरुद्ध है.. क्योंकि यह राजसी आयोजन है और इसमें सिर्फ कुमार ही हिस्सा ले सकते हैं।

ओह.. वह तो दुर्यू का चड्डी फ्रेंड है.. अब?

अब युवराज दुर्योधन ने कर्ण को ‘मोदी- द रजनीकांत्स अब्बा’ पेज का एडमिन बना दिया है और अब वह प्रतियोगिता में हिस्सा ले सकता है।

ओह वैरी गुड 😊.. अब आगे की कमेंट्री सुनाओ।

आगे गड्ढा है महाराज जिसमें पूरे राईट विंग की लुटिया ही डूब जानी है। खैर.. युधिष्ठिर ने डांस इंडियां डांस के सेट पर ऐसी परफार्मेंस दी है कि वन थाउजेंड लाईक मिले हैं। भीम ने अपने बल्ले से दस गेंदों पे सेंचुरी बना दी है.. कुछ छक्के इतने बड़े थे कि देवताओं तक पंहुची गेंद देवताओं ने ही रख ली और बारह रन का आशिर्वाद दिया है। भीम को भी थाउजेंड लाईक मिले हैं। नकुल और सहदेव ने हबीब पेंटर की स्मृति ईरानी में कव्वालियां सुना कर पांच पांच सौ लाईक बटोर लिये हैं.. और कमाल तो किया है अर्जुन ने, ऐसी रैली की है गांधी फैमिली के खिलाफ के पूरे दस लाख श्रोताओं ने सुनने का रिकार्ड बनाया है.. इतनी पब्लिक तो थी नहीं हस्तिनापुर में, इसलिये दस लाख में बांस, बल्ली, कुर्सी सब काउंट कर लिये हैं। पूरे पांच हजार लाईक्स मिले हैं।

और हमारे पुत्र 😳, वे क्या मात्र दर्शक हैं?

वे भी कुछ कर रहे हैं महाराज.. दुशासन ने तो खुद को कट्टर हिंदू शेर घोषित किया था, जिस पर पब्लिक ने डिमांड रखी कि पिछवाड़े से आखरोट तोड़ के दिखाये। तीन घंटे से इसी कोशिश में लगा है। दुर्योधन ने जरूर जज साहब की हत्या को प्राकृतिक मौत साबित करने का पराक्रम दिखाया है, जिस पर उसे पांच सौ लाईक्स मिले हैं। आपके बाकी पुत्र तो बस कमेंट में या तो गालियां लिख रहे हैं या पचपन लिख कर जादू के इंतजार में हैं। हां कर्ण जरूर प्रयास में है कि अर्जुन के लाईक्स से बराबरी कर सके.. वह भविष्य के भगवान नरेन्द्र की तरह नदी में घुस कर मगरमच्छों से टक्कर ले रहा है और उसके लाईक्स लगातार बढ़ रहे हैं।

हे भगवान.. इतनी इंसल्ट देखना लिखा था। उठा ले रे बाबा उठा ले।

किसे उठाना है महाराज 🤔

मुझे और किसे.. और उठा कर मेरे बैडरूम तक पंहुचाना है। आज हम गुस्से में कच्ची पियेंगे। यह लो मेरा अंगूठा तुम ही रख लो और मेरे बच्चों को लगातार मेरी तरफ से लाईक्स दो..

😷😷

~ अशफ़ाक़ अहमद

491 total views, 6 views today

Leave a Reply