कविता: बहस

  बहस: हवा और सूरज

एक बार छिड गई बहस, यो हवा और                                                सूरज में ।

कौन अथिक बलवान रहेगा, शक्तिशाली                                              हम तुममे ।।

  1. फिर क्या पवन चला, पहले थी उसकी थी                                                      बारी ।

वस्त्र उडा ले जाने में, शक्ति दी सारी ।।

लेकिन ज्यौ- ज्यौ वेग पवन का, पल- पल                                           बढता जाता ।

त्यौ-त्यौ पथिक वस्त्र अपने, कसता                                               लपेटता जाता ।।

हारा पवन अंत में, सूरज ने गरमी फैलाई ।

बढती जलती हुई धूप से, सब दुनिया अकुलाई ।।

कहीं किसी भी तरु का, कोई पत्ता एक ना हिलता ।

आग बरसती थी मानो . कण तृण-तृण सा जलता ।।

तर हो गया पसीने मे, तन भीगे कपडे सारे ।

घबरा गया पथिक, उसने झट अपने वस्त्र उतारे ।।

दूर फेंक उनको जा बैठा, वह छाया पा तरु की ।

हुई बहस तब खत्म, हवा ओर सूरज की  ।।

लेखक: जयवीर सिंह (प्रवक्ता हिंदी)

937 total views, 6 views today

Leave a Reply